Monday, May 21, 2012

संजय लीला भंसाली तो मुझसे भी ज्यादा कमर्शियल हैं, राउडी राठौड़ का टाइटल भी उन्होंने ही दिया थाः प्रभुदेवा

बातचीत  1 जून को रिलीज होने जा रही फिल्म के निर्देशक और मशहूर डांसर प्रभुदेवा से

 ‘सांवरिया’ और ‘गुजारिश’ के फ्लॉप होने के बाद संजय लीला भंसाली ने अपने असिस्टेंट राघव धर की कहानी ‘माई फ्रेंड पिंटो’ के निर्माण में पैसे लगाए। इस उम्मीद पर कि प्रतीक बब्बर और कल्कि कोचलिन को लेकर बनाई गोवन लिंगो वाली ये चैपलिनछाप कॉमेडी लोगों को पसंद आएगी और उनकी डूबत उबर जाएगी। पर फिल्म नहीं चली। इस दौरान प्रभुदेवा की बतौर निर्देशक हिंदी फिल्मों में या मुंबई के सिनेमा में ‘वॉन्टेड’ वाली करारी पहचान बन चुकी थी। कि... भई ये ऐसा निर्देशक है जो दक्षिण की ग्लैमराइज्ड-स्टायलाइज्ड मारधाड़ को भावनात्मक तार्किकता का जामा पहनाकर लोगों को थियेटर तक लाना जानता है। जो मुहावरा गढ़ने का अंदाज भारतीय सिनेमा में शुरू से रहा है, वह प्रभुदेवा कर पाते हैं। ‘दबंग’ बनाने वाले अभिनव की माफिक।

तो ‘खामोशी’, ‘ब्लैक’, ‘हम दिल दे चुके सनम’, ‘सांवरिया’ और ‘गुजारिश’ जैसी फिल्मों से कुछ-कुछ ऑटर थ्योरी में घुसते फिल्मकार संजय लीला भंसाली ने तब छुआ मारक वित्तअस्त्र ‘विक्रमारकुडू’। तेलुगू की इस सुपरहिट फिल्म को हिंदी में बनाने का जिम्मा उन्होंने दिया प्रभुदेवा को। नतीजा हाजिर है। ‘राउडी राठौड़’। कहानी वही है विक्रम राठौड़ वाली। जाहिर है।

अंदरूनी भारत में जो लोग 1993 के बाद एटीएन, डीडीवन और जी के म्यूजिक चैनल देखते हुए और ऑल इंडिया रेडियो सुनते हुए बड़े हुए हैं, उनके लिए प्रभुदेवा एक डायरेक्टर नहीं हैं। उनके लिए वह एक ऐसी छवि है जो ‘हम से है मुकाबला’ के एक गाने में ‘मुक्काला मुकाबला ओ हो होगा... ओ हो लैला...’ गा रहा होता है और गाने के आखिर में काऊबॉय अंदाज में पिस्टल की गोलियां चलती हैं और उस नृतक का सिर, कलाइयां और टखने गायब हो जाते हैं। उसके बाद भी वह पुतला नाचता रहता है। हमारे लिए प्रभुदेवा नाम का वह नृत्य निर्देशक और नृतक ‘उर्वशी-उर्वशी’ और ‘पट्टी रैप’ के अपरिमेय नृत्य के बाद इंडिया का माइकल जैक्सन हो गया था। ये मौका उन्हीं अपरिमेय से बात करने का था।

उनके नृत्य की तरह उनकी विनम्रता भी अपरिमेय सी है। ये इसी का एक और सबूत था कि सफल अभिनेता, निर्देशक और नृत्य निर्देशक होने के बावजूद अक्षय कुमार से जुड़ी हर बात में वह उन्हें अक्षय सर कहकर संबोधित करते हैं, जबकि उनका सफल करियर अक्षय से पहले ही शुरू हो गया था। पूछने पर तुरंत कहते हैं, “उनकी जगह कोई इंडस्ट्री में पांच साल पुराना भी होता तो उसे भी मैं सर ही कहता”। पूरी बातचीत में उनके जवाब यूं ही छोटे-छोटे रहते हैं। कुर्सी पर बैठते ही उन्होंने तुरंत एक के बाद एक, दो-तीन सैंडविच जल्दी-जल्दी खा लिए। किसी आम भूखे इंसान की तरह। उनके कपड़े भी वैसे ही होते हैं। तभी उनकी फिल्में भी आम इंसानों को सबसे ज्यादा लुभाती हैं। ये सब देखकर बहुत खुशी होती है।

आमतौर पर जो अभिनेता फिल्म निर्देशन (मसलन, अनुपम खेर और नसीरुद्दीन शाह) में उतरते हैं वो उससे तौबा कर लेते हैं, लेकिन प्रभु अलग मिट्टी के बने हैं। “मुझे डायरेक्शन पसंद है। इसमें टेंशन और क्रिेएटिविटी बहुत होती है, जो मुझे बहुत पसंद है”, वह कहते हैं। फिल्म के हिट होने की लालसा पर भी उनका जवाब बड़ा सीधा-सादा होता है। कहते हैं, “मैं भी नॉर्मल इंसान हूं। बाकी डायरेक्टर्स की तरह चाहता हूं कि मेरी फिल्म भी हिट हो। बस”। वह हम जैसे ही सीधे बंदे हैं और संजय लीला भंसाली सौंदर्य और सनक को लेकर अलग ही सेंस रखने वाले। संजय अपनी फिल्म को लेकर बेहद अधिकारात्मक हो जाते हैं। मगर प्रभु इस बात को झुठलाते हैं। वह कहते हैं, “पता नहीं लोगों ने उनके बारे में अलग धारणा बना रखी है, मुझे भी कहा कि वह अलग टाइप के इंसान हैं। पर ऐसा मुझे तो नहीं लगा। हकीकत में तो निर्माता होते हुए भी वह राउडी राठौड़ के सेट्स पर सिर्फ एक बार आए थे और वह भी बस आधे घंटे के लिए”। अब बात आती है, उनके घोर कमर्शियल और संजय के नॉन-कमर्शियल और ज्यादा ही आर्टिस्टिक मिजाज वाला होने के बीच। ऐसे में एक फिल्म क्या खिंचती नहीं रहती? इसके जवाब में वह कहते हैं, “संजय सर तो मुझसे भी ज्यादा कमर्शियल हैं। फिल्म को राउडी राठौड़ जैसा टाइटल भी उन्होंने ही दिया था”।

उन्हें देखते हुए लगता नहीं पर वह मानते हैं और मुझे आश्चर्य होता है कि तेलुगू और तमिल में बन रहे एक्सपेरिमेंटल सिनेमा पर भी वह नजर रखते हैं। चाहे वह नए फिल्मकार थियागराजन कुमारराजा की बनाई कमाल तमिल एक्शन फिल्म ‘अरण्य कांडम’ हो या फिर रामगोपाल वर्मा की कैनन के 5डी कैमरा से महज पांच दिन में बनी तेलुगू फिल्म ‘डोंगाला मुथा’ (वैसे डोंगाला मुथा का जिक्र आया है तो बता दूं कि इस फिल्म के मुख्य अभिनेता भी रवि तेजा ही हैं, वही रवि तेजा जिन्होंने ‘राउडी राठौड़’ की मूल फिल्म ‘विक्रमारकुडू’ में एसीपी विक्रम राठौड़ की भूमिका बेहतरीन तरीके से निभाई थी)। तो इस जिक्र पर प्रभु संक्षेप में कहते हैं कि हां, मैं ये सब देखता हूं। बड़ी अच्छी बात है कि नया काम हो रहा है, जो सिनेमा में नई चीजें लेकर आएगा।

मेरी रुचि प्रभुदेवा के बचपन और डांस की तरह झुकाव को जानने की होती है और वह बताते हैं, “पढ़ाई में अच्छा नहीं था। करियर का कुछ और ऑप्शन भी नहीं था। चूंकि मैं डांस को लेकर पागल था तो पिताजी से बोला। वो इंडस्ट्री में थे। उन्होंने पूछा क्या करना है तो मैंने बताया और मूवीज में आ गया”। प्रभु के पिता मुगुर सुंदर भी साउथ इंडियन फिल्मों के नामी कोरियोग्राफर रहे हैं। उनके भाई भी कोरियोग्राफर हैं।

‘राउडी राठौड़’ का निर्देशन करने के अलावा प्रभु, रैमो डिसूजा की फिल्म ‘एबीसीडी (एनी बडी कैन डांस)’ में भी अभिनय और डांस करते नजर आएंगे। रैमो की पिछली फिल्म ‘फालतू’ थी। ‘एबीसीडी’ में इंडिया के नामी नृतकों के साथ अमेरिका के डांस रिएलिटी शो की एक प्रतिस्पर्धी भी होंगी। प्रभुदेवा की बतौर डांसर वापसी कराने वाली ये फिल्म संभवत ‘स्टेप अप’ और ‘टेक द लीड’ की तर्ज पर होगी। खैर, बातों का यहीं अंत होता है। फिर कभी उनके अंतर्मुखी से बहुर्मुखी हो जाने और खूब लंबी गहरी बातें करने की उम्मीदों के साथ।

प्रभु से कुछौर प्रश्नोत्तर...
  • सर्वोत्तम नृत्य निर्देशन वाले गाने?
(गाना याद नहीं आता तो ट्यून गुनगुनाकर पूछते हैं कि ये कौन से गाने हैं, हिंट देता हूं और...) ‘डोला रे डोला रे’ (देवदास) और 'आज फिर जीने की तमन्ना है’ (गाइड)।

  • बॉलीवुड और टॉलीवुड को कैसे देखते हैं?
पहली काम करने के लिए मजेदार जगह है और दूसरी मेरा घर, जिसने मुझे बनाया।

  • कोई अगर पूछे कि आपकी फिल्म क्यों देखे तो?
क्योंकि इसमें अक्षय सर की एनर्जी है, गन्स है और फाइटिंग है। क्योंकि यह 'दबंग' के बाद सोनाक्षी सिन्हा की दूसरी फिल्म है। क्योंकि इसमें उन दोनों की कैमिस्ट्री बहुत कमाल की है। क्योंकि 'राउडी राठौड़' में मैं हूं।

  • कोरियाग्राफी अपने पिता से सीखी या खुद ही सीखे?
मैंने पिताजी के साथ काम किया। कुछ इसका भी फर्क पड़ा। दूसरा मैं उस इंडस्ट्री को अच्छे से जानता था। पर बाद में अच्छे से कोरियोग्राफी सीखी भी थी।

  • हिंदी फिल्मों के तीन सबसे बढ़िया डांसर, आपकी नजर में?
ऋतिक रौशन, माधुरी दीक्षित और श्रीदेवी मैम।

  • ‘वॉन्टेड’ के बाद सलमान खान के साथ काम नहीं किया?
मौका नहीं बना। वह बेहतरीन इंसान हैं। मुझे जब भी बुलाएंगे मैं हाजिर हो जाऊंगा।

  • क्या ‘राउडी राठौड़’ में अक्षय कुमार का डबल रोल 'डॉन’ के अमिताभ जैसा है?
(चौंकते हुए) पहले तो ये बताइए, आपको कहां से पता चल गया कि इसमें डबल रोल है। ....पर हां, डॉन से बिल्कुल अलग है।

  • अक्षय कुमार ने बहुत वक्त से एक्शन नहीं किया था?
पर ये शूटिंग में लगा ही नहीं। फाइट करते हुए तो वह 23-24 साल के लड़के जैसे बन जाते थे।

  • आपकी फिल्मों में एक्शन स्टायलाइज्ड और ग्लैमराइज्ड होता है, क्या बच्चों पर बुरा असर नहीं पड़ेगा?
पहले कभी इस तरह सोचा नहीं इस बारे में। मगर अब आपने कहा है तो आगे से जरूर ध्यान रखूंगा।

*** *** *** *** ***
गजेंद्र सिंह भाटी