Monday, February 13, 2012

ड्रैगन टैटू वाली लड़की सशक्त है, श्रेय जाता है नॉवेल लिखने वाले स्टीग लारसन कोः स्वीडिश फिल्म 2009

ये "औरतों से नफरत करने वाले मर्द" अर्थ वाले इस नॉवेल की ख्याति ही है कि दो साल के अंतराल में ' गर्ल विद ड्रेगन टैटू' नाम की दो फिल्में (2009 में स्वीडिश निर्देशक नील आर्डेन ऑप्लेव की, 2011 में अमेरिकी डेविड फिंचर की) बन गईं. स्वीडन के पत्रकार, लेखक और कम्युनिस्ट विचारधारा वाले स्टीग लारसन जब गुजरे तब 'मिलेनियम सीरिज' नाम के उनके तीन अप्रकाशित नॉवेल प्रकाशित हुए. फिर न जाने क्या हुआ कि ढिंढोरा पिट गया और ये नॉवेल बहुत बिके. मूल विचार क्राइम का रहा, औरतों के खिलाफ होने वाला अपराध और उसके इधर-ऊधर थ्रिल रची गई. ये तीन नॉवेल रहे ' गर्ल विद ड्रैगन टैटू', ' गर्ल हू प्लेड विद फायर' और ' गर्ल हू किक्ड हॉर्नेट्स नेस्ट.'

एक लेखक चाहे तो कुछ भी रच सकता है, कुछ भी कर सकता है. स्टीग लारसन ने अपने इस नॉवेल में लीजबेथ सेलेंडर नाम की इस नाटी सी भीतर ही भीतर रहने वाली लड़की को कई कुशलताएं दी हैं. आखिर स्टीग ने ऐसा क्यों किया. 15 बरस की उम्र में उनकी आंखों के आगे एक लड़की की आबरू लुटती रही और वह कुछ न कर पाए, ये इसी बात की पीड़ा थी जो उन्हें ताउम्र कचोटती रही. इसी का नतीजा था कि उनके नॉवेल और दुनिया के दो बहुत उम्दा फिल्म निर्देशकों की फिल्मों में नायक एक तरह से लीजबेथ है, मिकाइल ब्लॉमकोविस्ट नहीं. आखिर में वही उसे मरने से बचाती है, हांस एरिक वॉनस्ट्रॉम के खिलाफ मिलेनियम मैगजीन में अगली बड़ी खुलासे वाली स्टोरी के लिए (पहले नॉवेल और फिल्म में) सारे कागजात वही लाकर देती है. आखिर में मिकाइल अपने मुंह से खुद कहता है कि अगर तुम नहीं होती तो मैं ये केस कभी नहीं सुलझा पाता। असल जीवन में न सही, किताबी और फिल्मी दुनिया में लीजबेथ सशक्त है, चतुर है और अपने अपमान का बदला लेने में सक्षम है.

खैर, 2009 में आई स्वीडिश फिल्मकार नील आर्डेन ऑप्लेव की 'द गर्ल विद द ड्रैगन टैटू' देखी. फिल्म ने जिगरा तो नहीं जलाया पर, इज्जत कमाने वाली फिल्म है. खासतौर पर इसकी जान है स्वीडिश एक्ट्रेस नूमी रेपेस. इनका अभिनय इतना सटीक है कि पहचानने में धोखा होता है कि क्या ये वही हैं जो हाल ही में आई फिल्म 'शरलॉक होम्सः गेम ऑफ शेडोज' में मदाम सिम्जा बनी थीं. पर फिर पहचान हो ही जाती है. नूमी यहां लिजबेथ बनी हैं. अजीब सी वेशभूषा वाली बेस्ट रिसर्चर. पूरी फिल्म में लिजबेथ की जिंदगी इज्जत और बेइज्जती के न जाने कौन कौन से पड़ावों से गुजरती है, पर उसके पास अंततः हर चीज का जवाब है, हर अपमान का बदला है. इसमें नूमी खरी उतरती हैं. मुझे किसी एंगल से नहीं लगता कि ये कोई अभिनेत्री थी जो लिजबेथ की भूमिका अदा कर रही थी, ये तो कोई असल लिजबेथ ही थी, जो कहीं जीवित है. यही इनके अभिनय की खासियत रही. उनकी किरदार लिजबेथ के कानूनी गार्जियन नील जुरमैन बने स्वीडन के ही एक्टर पीटर एंडरसन परपीड़ा में सुख भोगने वाले सेडिस्ट बने, और छककर बने. जलालत उनके चेहरे से लगातार टपकती रही. लिजबेथ को थप्पड़ जड़ने, शारीरिक या यौन क्रूरता करने के क्षणों में कैमरा जैसे हमारे इनके बीच से बिल्कुल गायब ही हो जाता है. पर हम दर्शक भी इतने बर्बर से हो गए हैं कि अगर इन सीन में बैचेनी न हो तो ये चिंता की बात है.

मुख्य
अभिनेता यानी मिकाइल ब्लॉमकोविस्ट के किरदार को निभाने वाले माइकल नाइकविस्ट के चेहरे को देख लगता है कि पिछले साल वाली द गर्ल विद ड्रैगन टैटू में डेविड फिंचर ने डेनियल क्रैग को इन्हीं के चेहरे मोहरे से मिलता जुलता देख लिया या ढूंढा. अगर किसी को इन दो फिल्मों का न पता हो और वो इस स्वीडिश फिल्म को ही देखने लगे तो पहले पहल नाइकविस्ट को ही डेनियल समझ बैठेगा. इनके अभिनय के बारे में क्या कहा जाए. फिल्म में कोई गहन क्षण तो थे नहीं, हां कुछेक थे, मसलन फिल्म के आखिर में मौत से लड़ना. फांसी पर चढ़ते हुए जूझना. इन क्षणों में और जंगल में कोई बंदूक की गोली जब कनपटी से छूकर निकल जाती है तो, ये ऐसे पल हैं जहां नाइकविस्ट को गहन होना पड़ता है, अन्यथा नहीं.

ऑप्लेव का निर्देशन कच्चा नहीं है. फिंचर की फिल्म में जाहिर है म्यूजिक, फ्रेम का रंग और हीरो-हीरोइन की भूमिकाओं में कुछ कमर्शियल हेर-फेर होगा ही, पर ऑप्लेव ने दो साल पहले ही अच्छी क्राइम थ्रिलर बना दी थी. 'मिलेनियम सीरिज' की बाकी दो फिल्में हालांकि उन्होंने नहीं की, पर ये फिल्म निश्चित तौर पर मजबूत बनावट रही.

मसाला फिल्म में औरतों के खिलाफ हिंसा के सामाजिक संदर्भ को रखना और कहानीनूमा अंदाज में रखना सही था. सीधे तौर पर न सही पर लोगों को संदेश जाता है. न सिर्फ लिजबेथ की जिंदगी की कहानी में जो कि इस नॉवेल को लिखने वाले स्टीग लारसन ने खास उन्हीं को ध्यान में रखते हुए लिखा, बल्कि धनी वांगर फैमिली में हुई रहस्यमयी मौतों के पीछे छिपे औरतों पर अत्याचार के पहलू में भी.

*** *** *** *** ***
गजेंद्र सिंह भाटी