Monday, February 27, 2012

84वें ऑस्कर पुरस्कारों का लेखा-जोखाः 27 फरवरी 2012, कोडेक थियेटर, लॉस एंजिल्स

84वें केमी पुरस्कारों में आर्टिस्ट है, ह्यूगो है, बिली क्रिस्टल हैं, स्कॉरसेजी हैं, नामी प्रस्तुतकर्ता हैं, जीतने वाले हैं और नहीं जीतने वाले हैं 

फिल्में देखते हुए रात को सुबह कर देने वाले जीवों के लिए सुबह छह बजे सोने का वक्त होता है. और उसी वक्त हर साल प्रसारण होता है ऑस्कर पुरस्कारों का. एशिया में इन्हें देखने का सीधा स्त्रोत 'स्टार मूवीज' ही है. अंग्रेजी फिल्मों से हमारा पहला परिचय करवाने वाला प्रिय चैनल. विचारधारापरक और अप्रत्यक्ष अर्थों में कहीं-कहीं अप्रिय भी. खैर, वो तो ऑस्कर्स भी हैं. तो हमारे यहां 27 फरवरी, सोमवार के सुबह साढ़े पांच बजे थे और वहां शाम के तकरीबन पांच बजे. कि लॉस एंजेल्स, कैलिफॉर्निया के ऐतिहासिक कहानी भरे कोडेक थियेटर के बाहर लाल जाजम पर 84वें एकेडमी पुरस्कारों में हिस्सा लेने लोगों का आना शुरू हुआ. सैंकड़ों प्रकाशनों और प्रसारकों के हजारों पत्रकारों और एंकरों की मौजूदगी में. दुनियाभर से. जाजम पर काले-सफेद रंग के औपचारिक कपड़ों में पुरुष और भांत-भांत के खूबसूरत रंगों में “आई एम वैरिंग...” बताती स्त्रियां. ये सब कलाकार, अभिनेता, अभिनेत्रियां, फिल्मकार, फिल्म निर्माता, फिल्म लेखक, संगीतकार, गायक, सेलेब्रिटी, डिजाइनर, फिल्म तकनीशियन और इसी सिनेमा की कला से जुड़े लोग और उनके अतिमहत्वपूर्ण परिवार के सदस्य थे.

लाल जाजम पर हुए स्वागत के बाद सारा ध्यान बिली क्रिस्टल पर गया. इस बार ऑस्कर सैरेमनी के होस्ट वही थे. डायरेक्टर, राइटर, एक्टर, कॉमेडियन और नौ बार ऑस्कर होस्ट करने वाले बिली क्रिस्टल. वही वेन हैरी मैट सैली वाले. अपने व्यंग्य भरे दंशों से किसी को नहीं बख्शने वाले बिली तमाम दर्शकों और कोडेक थियेटर में बैठने वालों के लिए राहत की बात थे, क्योंकि पिछली बा ‘127 आर्सवाले जैम्स फ्रैंको औरडैविल वैर्स प्राडा वाली एनी हैथवे ने बतौर होस्ट इतना राजी नहीं किया था. तो बिली तकरीबन दो घंटे ठीक-ठाक थे, अपने तेवरों में कुछ धीमे होते, उम्र और बदलते वक्त के महीन होते सेंस ऑफ ह्यूमर के अनुरूप. कहीं-कहीं बड़े मजेदार.

मंच पर सबसे पहले कदम बुजुर्गवार अश्वेत अभिनेता मॉर्गन फ्रीमैन के पड़े. सिनेमा के सम्मोहन पर और हॉलीवुड की हिस्ट्री पर नजर डालते हुए, दो आधारभूत पंक्तियां कहते हुए उन्होंने सभी का स्वागत किया. फिर जो ओपनिंग मोनोलॉग का वीडियो चला उसमें बिली क्रिस्टल बीते साल की कुछ फिल्मों के यादगार दृश्यों को पिरोते दिखे. हंसाते हुए. आर्टिस्टके जॉर्ज वैलेंटीन की तरह मूक भाषा में ऑस्कर होस्ट नहीं करने की मुद्रा में होठ हिलाते हुए, फिर डिसेंडेंट्स के जॉर्ज क्लूनी फिल्म में कोमा में पड़ी अपनी वाइफ को जैसे किस करते हैं वैसे ही हॉस्पिटल बैड पर पड़े बिली को किस करके उठाते हैं, फिरमनीबॉल के बिली बीन की तरह मैनेजमेंट को सदस्यों की मीटिंग लेने के अंदाज में चने खाते हैं, अगले सीन में कार में बैठे जस्टिन बीबर और मरहूम अश्वेत एंटरटेनर सैमी डेविजूनियर (मिमिक्री आर्टिस्ट) से वो बातें करते हैं, खिल्ली बनाते हैं. फिर हेल्प, ब्राइड्समेड्सऔर ह्यूगो की बारी आती है.मिशन इम्पॉसिबल-4’ में टॉम क्रूज का सवा सौ मंजिल ऊपर छलांग गाते हुए कांच तोड़कर अंदर आने वाला सीन भी दोहराया जाता है. आखिर में बिलीटिनटिन बने थ्रीडी दृश्य में एडवेंचर करते दिखते हैं. कुल मिलाकर इन फिल्मों का उत्सव मनाते हुए.
टिनटिन की तरह उड़ते हुए बिली मंच पर पहुंच जाते हैं, ऑस्कर्स की औपचारिक पोशाक में. यहां वह बेस्ट फिल्मों के लिए नामित सभी नौ फिल्मों पर हल्के-फुल्के अंदाज में गाते-नाचते-हंसाते हुए टिप्पणी करते हैं. उसके बाद शुरू होता है जीतने का सिलसिला...

1. रॉबर्ट रिचर्डसन, ह्यूगो (सिनेमैटोग्रफी)...
खैर, तो बिली क्रिस्टल की इस तरह की शुरुआत के बाद पहले पुरस्कार को देने की बारी आई. अचीवमेंट्स इन सिनेमैटोग्रफी. इसे देने के लिए आए दो बार के बेस्ट एक्टर टॉम हैंक्स. मिलाह्यूगो के लिए रॉबर्ट रिचर्डसन को. रिचर्डसन प्रबुद्ध छायांकनकार हैं. उन्हें इससे पहले ऑलिवर स्टोन की जेएफके और स्कॉरसेजी की एवियेटर के लिए भी यही ऑस्कर मिल चुका है. यानी ये है ऑस्कर नंबर तीन. उन्होंने अपने भरे-पूरे जीवन में ऑलिवर स्टोन, स्कॉरसेजी और क्वेंटिन टेरेंटीनो की फिल्मों की सिनेमैटोग्रफी खूब की है. शेखर कपूर की फोर फैदर्स के सिनेमैटोग्राफर भी यही थे. उन्होंने कहा,यकीन नहीं होता, आप लोगों ने सिनेमैटोग्रफी को सबसे पहले रख दिया.” जाते जाते उनके शब्द थे, “पास्ट, प्रेजेंट और फ्यूचर के सभी फिल्ममेकर्स के नाम...”

2. डॉन्टे फैरेटी और फ्रांसेस्का ल शायवो, ह्यूगो (आर्ट डायरेक्शन)


ये भी टॉम हैंक्स ने ही पुकारा. बेस्ट र्ट डायरेक्शन भीह्यूगो जीती. बेहद विरले इतालवी प्रोडक्शन डिजाइनर डॉन्टे फैरेटी और उनकी सेट डैकोरेटर धर्मपत्नी फ्रांसेस्का शायवो ऑस्कर की प्रतिमा लेने आए. दोनों सात बार नामांकित हो चुके हैं. ये इनका तीसरा ऑस्कर है. फैलिनी, कपोला और स्कॉरसेजी जैसे कईयों सिने दिग्गजों की फिल्मों की रीढ़ रहे हैं डॉन्टे. प्रोडक्शन और आर्ट डिजाइन की दुनिया में इनका नाम ही तोप है. जरा सा घबराते हुए और चेहरे पर भोला सा भावलाते हुए फ्रांसेस्का ने पुरस्कार लेने के बाद कहा, दिस इज फॉर मार्तीन (मार्टिंग स्कॉरसेजी) एंड फॉर इतली...”

3. मार्क ब्रिजेज, द आर्टिस्ट (कॉस्ट्यूम डिजाइन)
बेस्ट कॉस्ट्यूम का ऑस्कर आर्टिस्ट के लिए मार्क ब्रिजेज को मिला. मार्क फाइटरऔरदेयर विल बी ब्लड जैसी धड़कीली फिल्मों में वस्त्र सज्जा कर चुके हैं. उनका पेशेवर जीवन फिल्मों से भरा-पूरा रहा है. हम-आप जैसे ही किसी फिल्म देखने वाले की तरह उन्होंने पूरी मासूमियत और बगैर छद्म हुए कहा, मैं नायग्रा फॉल्स का एक औसत लड़का था, जिसने मूवीज को खाया, पीया और सोया. थैंक यू एकेडमी.”

4. मार्क कूलिए और जे. रॉय हैलेंड, द आयरन लेडी (मेकअप) 
 अब जीतने की बारी आयरन लेडी की थी. हालांकि फिल्म एल्बर्ट नॉब्समें भी शानदार अभिनेत्री ग्लेन क्लोस को इतनी शिद्दत से एक पुरुष बनाने के लिए तीन लोगों की उस मेकअप टीम को तारीफ मिलनी ही चाहिए. खैर, मार्क कूलिए और जे. रॉय हैलेंड ने भी मैरिल स्ट्रीप को पूरे दबदबे के साथ ब्रिटेन की प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर जैसा बनाया, जो अनोखा था. मार्क तो प्रोस्थैटिक्स यानी चूने-पाउडर से अदाकारों का रूप बदलने वाले जादूगर हैं.हैरी पॉटर’, ‘स्टार वॉर्स’, ‘एक्समैन’, ‘ ममी रिटर्न्स’, ‘एलिस इन वंडरलैड’, ‘वैक्सवर्कऔरफ्रैंकेस्टीन जैसी फिल्मों का नाम लेते जाइए और आपको मार्क के काम का अंदाजा होता जाएगा. वहीं हैलेंड पिछले 30 से भी ज्यादा साल से मैरिल स्ट्रीप के मेकअप आर्टिस्ट और दोस्त रहे हैं. मैरिल ने आज जब बेस्ट एक्ट्रेस का ऑस्कर जीता तो उसमें हैलेंड का भी खास जिक्र किया. हैलेंड 50 से भी ज्यादा फिल्में कर चुके हैं.

इस बीच सितारों के इस अमेरिकी जमावड़े का और मानवीय और साधारण चेहरा बीच-बीच में आता रहा. पूरी सैरेमनी के दौरान नए-पुराने अदाकार सिनेमा को लेकर अपनी पहली यादें, सोच और चाहत के सवालों वीडियो क्लिपिंग्स में बोलते नजर आए. इनमें टॉम क्रूज, एडम सैंडलर, बेन स्टेलर, मॉर्गन फ्रीमैन, रॉबर्ट डाउनी जूनियर, ब्रैड पिट, सेथ रोगन और जोना हिल जैसे कई चेहरे थे. 

5. असगर फरहादी, अ सैपरेशन (फॉरेन लेंग्वेज फिल्म)
ये पुरस्कार प्रस्तुत करने मंच पर आईं हंसोड़ सैंड्रा बुलॉक. इस कैटेगरी में बेल्जियम, पोलैंड, ईरान, इजरायल और कैनेडा से फिल्में नामित हुईं थीं. जीती ईरान केनिर्देशक असगर फरहादी की सैपरेशन. जीतना तकरीबन तय था. अपने बच्चे के भविष्य के लिए ईरान छोड़कर जाने या वहीं रहकर संघर्ष करने की एक पति-पत्नी की ये बड़ी भावपूर्ण दास्तान थी. ऑस्कर जीतने वाली ये पहली ईरानी फिल्म है. इससे पहले 1997 में चिल्ड्रन ऑफ हैवनको नामांकित किया गया था. पर वो जीती नहीं. असगर मंच पर पूरे आत्मविश्वास के साथ पहुंचे, कोट के अंदर की बाईं जेब से एक सफेद प्रर्ची निकालकर पढ़ते हुए, इस वक्त दुनिया भर के ईरानी हमें देख रहे हैं, और वो बहुत खुश होंगे. वो खुश सिर्फ एक महत्वपूर्ण पुरस्कार या एक फिल्म या एक फिल्मकार की वजह से नहीं होंगे, बल्कि इसलिए कि एक ऐसे वक्त में जब राजनेताओं के बीच युद्ध, धमकियों और आक्रामकता की बातों का आदान-प्रदान हो रहा है, उनके देश ईरान का नाम यहां लिया जा रहा है. उसकी वैभवशाली संस्कृति, उसकी प्राचीन संस्कृति की वजह से, जिसे राजनीति की बोझिल रेत के नीचे छिपा दिया गया है. मैं पूरे गर्व के साथ ये अवॉर्ड अपने देश के लोगों को सौंपता हूं. ऐसे लोगों को जो सब संस्कृतियों और नागरिक सभ्यताओं का सम्मान करते हैं. जो हिंसा और नाराजगी से नफरत करते हैं. बहुत बहुत धन्यवाद.”

6. ऑक्टेविया स्पेंसर, द हैल्प (सपोर्टिंग एक्ट्रेस)

अब प्रस्तुतकर्ता के तौर पर आए क्रिस्टियान बेल, जिन्होंने पिछले साल ‘फाइटर’ के लिए बेस्ट पोर्टिंग एक्टर का ऑस्कर जीता था. हालांकि इस श्रेणी में ‘एल्बर्ट नॉब्स’ की जैनेट मेक्टीयर और ‘ब्राइड्समेड्स’ की मेलिसा मेकार्थी मजबूत दावेदार थीं, पर जीती ‘हैल्प’ के लिए ऑक्टेविया स्पेंसर. नाम पुकारे जाने पर वह रोते हुए स्टेज पर आईं. बड़ा भावुक दृश्य था. ये उनका पहला ऑस्कर पुरस्कार था. भला ऐसा कितनी बार होता है कि किसी सपोर्टिंग एक्ट्रेके लिए सब खड़े हो जाएं. ऑक्टेविया ने अपनी फैमिली को सम्मान देते हुए भावनात्मक उत्साह में कहा,थैंक यू, मुझे ये अवॉर्ड इतने हॉटेस्ट बंदे (क्रिस्टियान बेल) से दिलवाने के लिए.” फिल्म में वह एलाबामा में रहने वाली एक घरेलू नौकरानी बनी हैं, जो श्वेतों के घर अश्वेत नौकरानियों की उस दासता और भेदभाव से भरी मनस्थिति के खिलाअपना मुंह खोलती है. वह जो कहती है, उसपर लिखा गया नॉवेल बेस्टसेलर बनता है. ऑक्टेविया के इतना रुआंसा होने और उन्हें स्टैंडिंग ओवेशन मिलने के पीछे भी कुछ ऐसी ही अदृश्य बात आज भी है, जो नस्लीय बराबरी वाले समाज के बारे में बहुत कुछ कहती है.

इस बीच एक पहले से रिकॉर्ड किया हुआ चुटकुला दिखाया जाता है. ये 1939 में फिल्मों को थियेटर में रिलीज करने से पहले निर्माताओं द्वारा कुछ चुनिंदा लोगों को राय जानने के लिए फिल्में दिखाए जाने के बारे में था. इन्हें फोकस ग्रुप्स कहते थे. क्रिस्टोफर गस्ट और साथी कलाकारों ने इसमें भूमिकाएं निभाई. तब की ब्लैक एंड वाइट फिल्मविजर्ड ऑफ ऑजीकी टेस्ट स्क्रीनिंग को लेकर ये चुटकुला बनाया गया.

7. कर्क बैक्सटर और एंगस वॉल, द गर्ल विद ड्रैगन टैटू (एडिटिंग)

अचीवमेंट इन फिल्म एडिटिंग का पुरस्कार प्रस्तुत करने आए नई नवेली मूंछों में ब्रैडली कूपर (हैंगओवर में सब दोस्तों में सबसे हैंडसम व्यक्ति) और टीना फे. इस श्रेणी में मामला करीबी था, मगर नाम पुकारा या ‘गर्ल विद ड्रैगन टैटू’ के लिए कर्क बैक्सटर और एंगस वॉल का. इन्होंने ही पिछले साल ‘सोशल नेटवर्क’ के लिए यही अवॉर्ड जीता था. दोनों ने उम्मीद नहीं की थी, इसलिए तो कोई पर्ची लेकर आए थे और ही याद किए हुए नाम. दोनों ने कहा,हमने सोचा नहीं था कि आज जीतेंगे.” डेविड फिंचर की इस फिल्म को ये इकलौता ऑस्कर मिला.

8. फिलिप स्टॉकटन और यूजीन गियर्टी, ह्यूगो (साउंड एडिटिंग)

इस श्रेणी में सब फिल्में ही जोरदार थीं, मगर ‘ह्यूगो’ की एडिटिंग ज्यादा करीने से की गई थी. इसके लिए फिलिप स्टॉकटन और यूजीन गियर्टी ने पुरस्कार ग्रहण किया. फिलिप का करियर समृद्ध रहा है. उन्होंने ‘इनसाइड मैन’, ‘द डिपार्टेड’, ‘द एवियेटर’, ‘ब्रोकबैक माउंटेन’, ‘गुडफैलाज’ और ‘द साइलेंस ऑफ द लैंब्स’ में साउंड एडिटिंग की है. इनमें से कई फिल्मों में यूजीन भी साउंड डिजाइनर रहे हैं. उनके नाम ‘मैन इन ब्लैक’, ‘क्राउचिंग टाइगर हिडन ड्रैगन’, ‘शटर आइलैंड’ और ‘प्रैशस’ जैसी फिल्में भी रही हैं.

9. टॉम फ्लीशमन और जॉन मिजली, ह्यूगो (साउंड मिक्सिंग) 

ये पुरस्कार भी ‘ह्यूगो’ ले गई. टॉम फ्लीशमन और जॉन मिजली ने कहा,हमारे फैलो नॉमिनीज हमें इंस्पायर करते हैं.” दोनों बड़े भावुक हो गए जो ऐसी टेक्नीकल श्रेणियों में बेहतरीन काम करने वाले विशेषज्ञों के अलग ही पक्ष को दिखाता है. ये पक्ष हमेशा हमारे लेखों और दर्शकों की तारीफों से गायब ही रहता है, जो गलत है. टॉम तो 160 से ज्यादा फिल्मों में साउंड मिक्सिंग और री-रिकॉर्डिंग प्रमुख रह चुके हैं. ह्यूगो के डायरेक्टर स्कॉरसेजी की कई फिल्मों से जुड़े रहे हैं. स्कॉरसेजी की फिल्मों के अलावा वह ‘फिलाडेल्फिया’, ‘लाइफ इज ब्यूटिफुल’ और आने वाली ‘मैन इन ब्लैक-3’ के पीछे भी रहे हैं. जॉन मिजली कुछ यंग हैं. पिछले साल ऑस्कर्स में छाई रही ‘किंग्स स्पीच’ की प्रोडक्शन साउंड मिक्सिंग इन्होंने ही की थी.


यहां जरा सा ब्रेक लेते हुए हैरतअंगेज कोरियोग्रफी वाला मोंटाजसर्कु सोलेपेश किया गया. अद्भुत. दांतों तले अंगुली दबाने वाला. खासकर जब शुरू में दो डांसर कोडेक थियेटर के इस ऊंचे हॉल में एक हाथ से ऐरोबिक्स वाले अंदाज में लटकते हैं और अतिथियों के सिरों के ऊपर कलाबाजियां खाते हैं. बड़ी नफासत से पूरी कोरियोग्रफी की गई.

10. टीजे मार्टिन और डेनियल लिंडसे, अनडिफीटेड (डॉक्युमेंट्री)


यहां पुरस्कार प्रस्तुत करने आईं ग्वैनेथ पॉल्ट्रो और रॉबर्ट डाउनी जूनियर. रॉबर्ट माहौल में हंसी और चुस्ती ले आए. बेस्ट डॉक्युमेंट्री फीचर का ऑस्कर दिया गया ‘अनडिफीटेड’ के लिए टीजे मार्टिन और डेनियल लिंडसे को. अमेरिकी फिल्मों की तर्ज पर यहां कहानी एक ऐसे सच्चे नायक बिल कर्टनी की है जो अमेरिका के नॉर्थ मैंफिस में एक हाई स्कूल फुटबॉल कोच है और बच्चों को सिर्फ फुटबॉल सिखाता है बल्कि उनकी जिंदगियों का भी कुछ जिम्मा लेता है. टीजे और डेनियल के साथ फिल्म के प्रॉड्यूसर भी मंच पर आए और डायरेक्टर बंधुओं ने उत्साह-उत्साह में इस बेहद गरिमामय समारोह में एफ-बम गिरा दिया. यानी बेकायदे वाले एफ शब्द का इस्तेमाल कर दिया.

11. गोर वरबिंस्की, रैंगो (एनिमेटेड फिल्म)

आश्चर्यजनक ढंग से इस श्रेणी में ‘द एडवेंचर्स ऑफ टिनटिनः द सीक्रेट्स ऑफ द यूनीकॉर्न’ को नामांकित ही नहीं किया गया था, और न ही ‘हैपी फीट-2’ को. खैर, मंच पर ठंडी बयार लाए प्रस्तुतकर्ता क्रिस रॉक. अश्वेत हास्य अभिनेता क्रिस खुद ऑस्कर के होस्ट रह चुके हैं. हंसी-हंसी में वह बहुत सच्ची और कड़वी बात बोल गए. उन्होंने एनिमेशन फिल्मों में वॉयसओवर के संदर्भ में हंसी ठिठोली की और कहा किअगर आप अश्वेत हो तो एनीमेशन फिल्म में गधा या जैबरा बन सकते हो.” तो फिर घोषणा हुई पुरस्कार की और बेस्ट एनिमेटेड फीचर फिल्म का ऑस्कर दिया गया हरे गिरगिट की कहानी ‘रैंगो’ को. 2डी में बनी इस फिल्म के निर्देशक गोर वरबिंस्की इससे पहले ‘पायरेट्स ऑफ करेबियन’ की तीनों शुरुआती फिल्में बना चुके हैं. रैंगो को आवाज भी जॉनी डेप ने दी है. वरबिंस्की का ये पहला नामांकन था और वह जीते. उन्होंने कहा,मुझसे किसी ने पूछा कि क्या ये फिल्म बच्चों के लिए है. तो मैंने कहा कि पता नहीं. शायद ऐसे बड़ों के लिए है जो बड़े नहीं होना चाहते.”

12. रॉब लगातो, जॉस विलियम्स, बेन ग्रॉसमैन और एलेक्स हैनिंग, ह्यूगो (विजुअल इफैक्ट्स)
सीधे चेहरे वाले बेन स्टेलर और खूब चुलबुली एमा स्टोन बतौर प्रस्तुतकर्ता आए बेस्ट विजुअल इफैक्ट्स का ऑस्कर देने. ये पुरस्कार भी ‘ह्यूगो’ को गया. मंच पर रॉब लगातो, जॉस विलियम्स, बेन ग्रॉसमैन और एलेक्स हैनिंग की चौकड़ी आई. बता दूं कि रॉब ‘स्टार ट्रैक’ (टीवी सीरिज), ‘अवतार’, ‘आर्मागैडन’, ‘कास्ट अवे’ और पहली ‘हैरी पॉटर’ फिल्म के विजुअल इफैक्ट्स गढ़ने वाली टीम का हिस्सा रहे हैं. जॉस विलियम्स ने ‘एलियंस’, ‘इंडियाना जोन्स’, 2001 की टीवी सीरिज ‘बैंड ऑफ ब्रदर्स’, 2010 में आई टीवी सीरिज ‘द पैसिफिक’, ‘म्यूनिख’, ‘बोर्न अल्टीमेटम’, ‘चार्ली एंड द चोकलेट फैक्ट्री’, ‘रैंबो-4’ और ‘ट्रॉय’ में विजुअल इफैक्ट दिए हैं. चौकड़ी के तीसरे सदस्य बेन के खाते में ‘द डे आफ्टर टुमॉरो’, ‘सिन सिटी’, ‘2012’, ‘पब्लिक एनिमीज’ और ‘एलिस इन वंडरलैंड’ जैसी फिल्में हैं. एलेक्स हैनिंग भी बेन के साथ इन फिल्मों में विजुअल इफैक्ट्स से जुड़े रहे हैं. ‘प्रीस्ट’ और ‘सुपरमैन रिटर्न्स’ जैसी फिल्मों के अविश्वसनीय दृश्यों के पीछे भी एलेक्स हैं.

13. क्रिस्टोफर प्लमर, बिगीनर्स (बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर)
 

बीते साल ‘द फाइटर’ के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का ऑस्कर जीतने वाली मेलिसा लियो ये अवॉर्ड पुकारने आईं. जीते 82 साल के क्रिस्टोफर प्लमर, फिल्म ‘बिगीनर्स’ के लिए. फिल्म में उन्होंने ऐसे बुजुर्ग का रोल किया है जो बुढ़ापे में अपने बेटे को बताता है कि वो गे है. ऑस्कर जीतने वाले इस सबसे ज्यादा उम्र के एक्टर को स्टैंडिंग ओवेशन मिला. ऑस्कर की प्रतिमा देख वह बोले, तुम मुझसे बस दो साल ही बड़ी हो डार्लिंग, फिर अब तक कहां थी, मुझे मिली क्यों नहीं.” उन्होंने अपने साथ इस श्रेणी में नामांकित हुए कैनेथ ब्रना (माई वीक विद मैरिलिन), जोना हिल (मनीबॉल), निक नोल्टे (वरियर) और मैक्स वॉन साइडो (एक्सट्रीमली लाउड एंड इनक्रेडिबली क्लोज) का नाम लेकर कहा,मैं आप लोगों की बराबरी में और साथ होकर गदगद हूं.” उन्होंने आखिर में बड़ा फिल्मी और मार्मिक डायलॉग मारा, एंड लास्ट माई वाइफ. जिसे शांति का नोबल मिलना चाहिए. जो हरेक दिन मेरी रैस्क्यू में आती है.”

14. लूडविक बोर्स, द आर्टिस्ट (म्यूजिकल स्कोर)
 
प्रस्तुतकर्ता थे मनमोहिनी स्पैनिश अभिनेत्री पनीलपी क्रूज और ‘मिडनाइट इन पैरिस’ वाले एक्टर ओवेन विल्सन. विजेता के तौर पर उन्होंने ‘द आर्टिस्ट’ का संगीत बनाने वाले फ्रेंच कंपोजर लूडविक बोर्स को आवाज दी. अभी पिछले महीने ही वरिष्ठ अभिनेत्री किम नोवाक ने टिप्पणी की थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि लूडविक ने बर्नार्ड हैरमैन के संगीत की नकल की है, जो बर्नार्ड ने एलफ्रैड हिचकॉक की 1958 में आई फिल्म ‘वर्टीगो’ के लिए तैयार किया था. हालांकि बाद में ‘द आर्टिस्ट’ के निर्देशक मिशेल ने इस पर खेद जताया था. खैर, तो मंच पर आने के बाद लूडविक बोले, “सबसे पहले मैं म्यूजिक की ताकत को ट्रिब्यूट देना चाहता हूं, अपने साथ नामांकित हुए सभी कंपोजर्स को धन्यवाद देना चाहता हूं.” उन्होंने जाते-जाते कहा,मुझे स्वीकार कर लीजिए, बीकॉज आइ हैव सो मच लव टू गिव.”

15. ब्रैट मैकिंजी, द मपेट्स (ऑरिजिनल सॉन्ग)

अब तक बड़ी औपचारिक और बेजान चल रही फिजा में दो ऐसे हास्य अभिनेता आए जिन्होंने कुछ ही पलों में सबको तरोताजा कर दिया. विल फैरेल और जैक गैलिफियानाकिस सफेद टक्सीडो पहने हुए स्टेज के नीचे बने ऑरकेस्ट्रा स्पेस से निकले, बड़े-बड़े मजीरे या झांझ बजाते हुए. यूं आते भी क्यों नहीं जब अवॉर्ड ही बेस्ट ऑरिजिनल सॉन्ग का था. दोनों जल्द ही एक पॉलिटिकल कॉमेडी ‘द कैंपेन’ में नजर आएंगे. जैक को न पहचान पाए हों तो ये वही हैं ‘हैंगओवर’ में जिनके बाथरूम में शेर घुस जाता है. खैर, तो अवॉर्ड जीता ब्रैट मैकिंजी ने ‘द मपेट्स’ के गाने ‘मैन और मपेट्स...’ के लिए. उन्होंने पूरे मजाकिया अंदाज में स्पीच पढ़ी. बोले,मैं न्यूजीलैंड में बड़ा हुआ तो मपेट्स देखता हुआ. किम फ्रॉग से मिला तो दंग रह गया.”

16. एलेग्जेंडर पेइन, नैट फैक्सन और जिम रैश, द डिसेंडेंट्स
(एडेप्टेड स्क्रीनप्ले)
 प्रस्तुतकर्ता को बुलाने के लिए पहचान के तौर पर कहा गया, द ऑरिजिनल गर्ल विद द ड्रैगन टैटू एंजलीना जॉली. माइक के सामने खड़े होने के बाद अपनी एक तरफ से लंबी फटी हुई स्कर्ट में से गोरी टांग बाहर निकालकर वह मौके के प्रतिकूल अलग से पोज में खड़ी हुईं. ये ऑस्कर मिला ‘द डिसेंडेंट्स’ को. ग्रहण करने आए एलेग्जेंडर पेइन, नैट फैक्सन और जिम रैश. फिल्म को ये पहला अवॉर्ड मिला. कुछ सांकेतिक हंसी के फुहारे छोड़ते हुए राइटर जिम रैश एंजलीना वाले अंदाज में खड़े हुए. निर्देशक-लेखक पेइन ने दर्शकों में बैठी अपनी मां को ट्रिब्यूट दी.

17. वूडी एलन, मिडनाइट इन पैरिस (ऑरिजिनल स्क्रीनप्ले)
‘मिडनाइट इन पैरिस’ के लिए दिग्गज फिल्ममेकर वूडी एलन को ये अवॉर्ड मिला. पर वह इस मौके पर मौजूद नहीं थे, जैसा कि हर बार होता है. अब तक कुछ 23 बार ऑस्कर पुरस्कारों के नामांकित हो चुके वूडी अपनी फिल्में खुद ही लिखते हैं. तो वह इस मौके पर मौजूद नहीं थे, वह सिर्फ एक बार ऑस्कर्स में नजर आए, 2002 में, वह भी समारोह में उपस्थित फिल्मकारों से ये निवेदन करने कि 9-11 के हमले के बाद भी सब न्यू यॉर्क सिटी में अपनी फिल्मों की शूटिंग करना जारी रखें.


18. टैरी जॉर्ज और उरलॉग जॉर्ज, द शॉर (लाइव एक्शन शॉर्ट फिल्म)
 माइला जोकोविच स्टेज पर आईं और उनके बाद शॉर्ट फिल्मों की श्रेणी के तीन पुरस्कार देने पहुंची फिल्म ‘ब्राइडसमेड्स’ की छह बदमाश औरतें. इन्होंने अपनी नानी को भी नहीं बख्शा, शॉर्ट शब्द पर द्वअर्थी फिकरे कसे, मंच पर वोद्का पी और मार्टिन स्कॉरसेजी को डरा दिया. इनकी इस हंसी-मजाक में औपचारिक माहौल कुछ हल्का-फुल्का हुआ. तो बेस्ट लाइव एक्शन शॉर्ट में जीती आयरिश फिल्म ‘द शॉर’. ‘होटल रवांडा’ बनाने वाले टैरी जॉर्ज और उरलॉग जॉर्ज मंच पर पुरस्कार लेने आए. साथ में टैरी की बेटी ऑरला भी थी. फिल्म में मुख्य किरदार सियरेन हिंड्स ने निभाया है जो टैरी की फिल्म ‘सम मदर्स सन’ में भी काम कर चुके हैं. ‘द शॉर’ कहानी एक ऐसे आदमी की है जिसने मुश्किल हालात में उत्तरी आयरलैंड छोड़ दिया था और अब 25 साल बाद अपने मुल्क लौटा है अपनी बेटी के साथ. टैरी ऩे अपनी स्पीच में उत्तरी आयरलैंड के लोगों को ट्रिब्यूट दी कि उन्होंने पिछले 30 साल के संघर्ष में शांति कायम की है. टैरी इससे पहले बुरे वक्त और मुल्क के भीतरी संघर्ष पर अप्रत्यक्ष रेशों को छूने वाली ‘बॉक्सर’ और ‘इन द नेम ऑफ फादर’ लिख चुके हैं. इस श्रेणी में भारतीय कहानी पर बनी ‘राजू’ भी थी, जो जीत नहीं पाई. 

19. डेनियल जंज और शर्मीन ओबेद चिनॉय, सेविंग फेस (बेस्ट डॉक्युमेंट्री शॉर्ट)

ये अवॉर्ड जीता ‘सेविंग फेस’ ने. अमेरिका के डेनियल जंज और पाकिस्तान की शर्मीन ओबेद चिनॉय की ये डॉक्युमेंट्री पाकिस्तान में तेजाबी हिंसा की शिकार औरतों और उनका चेहरा सुधारने के लिए लंदन से फिर अपने मुल्क पाकिस्तान लौटे एक प्लास्टिक सर्जन डॉक्टर मोहम्मद जवाद के बारे में है. हालांकि इसे पाकिस्तानी डॉक्युमेंट्री कहा जा रहा है पर असल में ये मेहनत डेनियल की थी, जो शर्मीन के इस प्रोजैक्ट से जुड़ने से पहले ही डॉक्युमेंट्री का बड़ा हिस्सा शूट कर चुके थे. खैर, ऑस्कर की प्रतिमा लेने के बाद शर्मीन ने कहा, वो सभी लोग जो पाकिस्तान में काम कर रहे हैं, अपने सपनों को मत खोना.” 

20. विलियम जोयेस और ब्रैंडन ओडेनबर्ग, द फैनटेस्टिक फ्लाइंग बुक्स ऑफ मिस्टर मॉरिस लेज्मोर (बेस्ट एनिमेटेड शॉर्ट फिल्म)
 

इस श्रेणी में विजेता बनी विलियम जोयेस और ब्रैंडन ओडेनबर्ग की निर्देशित प्यारी सी फिल्म ‘द फैनटेस्टिक फ्लाइंग बुक्स ऑफ मिस्टर मॉरिस लेज्मोर’. जादू है. 15 मिनट का जादू. बच्चों को जरूर ही देखनी चाहिए. कहानी तूफान में मॉरिस की किताब से उड़ गए शब्दों और उन्हें पाने की यात्रा के बारे में है. मंच पर आए विलियम और ब्रैंडन बड़े कूल अंदाज में आए और कुछ रुआंसे भी हो गए. उन्होंने कहा, मूवीज हमारे डीएनए में है. जिंदगी में मूवीज से ज्यादा हमने किसी चीज को नहीं चाहा.” 

21. मिशेल हैजेनिविशस, द आर्टिस्ट (बेस्ट डायरेक्टर)
 

दो बार के एकेडमी अवॉर्ड विजेता और वरिष्ठ अभिनेता माइकल डगलस ये पुरस्कार देने आए. उन्होंने नाम की घोषणा की, ‘द आर्टिस्ट’ के लिए मिशेल हैजेनिविशस. उन्होंने अपनी स्पीच में कई लोगों का धन्यवाद करते हुए अपने डॉग अगी तक को थैंक यू बोला, बोले, पता नहीं वो मेरी बात समझ भी सकता है कि नहीं.” उन्होंने अपने क्रेजी फाइनेंशियर का भी शुक्रिया किया जिसने फिल्म में पैसे लगाए. उन्होंने कहा, कभी-कभी लाइफ वंडरफुल होती है और आज वो दिन है.” इस श्रेणी की बाकी फिल्में भी खूब जोरदार थीं, पर मिशेल ने जो विषय चुना, वह सब पर भारी पड़ गया. 

22. जॉं दुजॉर्दों, द आर्टिस्ट (बेस्ट एक्टर)
 गुजरे साल निर्देशक डैरेन एरॉनफस्की की फिल्म ‘ब्लैक स्वॉन’ के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का ऑस्कर जीतने वाली नैटली पोर्टमैन बेस्ट एक्टर के पुरस्कार की घोषणा करने आई. माहौल में विजेता का नाम जैसे पहले से ही छिपा हुआ था. ‘द आर्टिस्ट’ के लिए फ्रेंच एक्टर जॉं दुजॉर्दों. वैसे इस कैटेगरी में डेमियन बशीर (अ बैटर लाइफ), जॉर्ज क्लूनी (द डिसेंडेंट्स), ब्रैड पिट (मनीबॉल) और गैरी ओल्डमैन (टिंकर टेलर सोल्जर स्पाय) भी बड़े मजबूत दावेदार थे. ये आप इनकी फिल्मों को देखकर
समझ पाएंगे। खैर, जॉं स्टेज पर आए. उनकी मुस्कान और खुशी में एक अलग किस्म का चार्म और मद है, जो सम्मोहित सा करता है. संभवतः उन्हें अब से अमेरिकी फिल्मों में खूब काम मिलेगा, क्योंकि उनकी अभिनय क्षमताएं संपूर्ण सी हैं. नवों रस समेटे हुए. जेब से पर्ची निकालकर बोलते हुए, मिशेल को थैंक यू बोलते हुए, सब अमेरीकियों का शुक्रिया अदा करते हुए और खुशी से उछलते हुए उन्होंने काफी कुछ कहा. सबसे फनी था, आते ही उनका कोडेक थियेटर में बैठे सब लोगों से कहना, आई लव योर कंट्री.”
यहां तक आते-आते हमारे अपने .आर.रहमान की आहट भी होने लगी थी. वो ऊपर संगीतकारों के रोखे में पियानो पर बैठे थे. बीच में अपने ट्रैक ऑस्कर संगमम के कुछ स्वर भी बिखेरते दिखे. सच में वो इस बेहद पराए अवॉर्ड को भी हमारे दायरे वाला महसूस करवा जाते हैं. पहले दो ऑस्कर जीतकर और अब लगातार वहां रेलेवेंट बने रहकर. सुपरहैवी सिंगर.

23. मैरिल स्ट्रीप, द आयरन लेडी (बेस्ट एक्ट्रेस)
 

 मंच पर बीते साल ‘किंग्स स्पीच’ के लिए बेस्ट एक्टर की ऑस्कर प्रतिमा जीतने वाले ब्रिटिश अभिनेता कॉलिन फर्थ आए. उन्होंने नाम पुकारा दो बार ऑस्कर जीत चुकीं मैरिल स्ट्रीप का, जो 23 बार तो नामांकित ही हो चुकी हैं. इस श्रेणी में ग्लेन क्लोस (एल्बर्ट नॉब्स), वियोला डेविस (द हैल्प), रूनी मारा (द गर्ल विद द ड्रैगन टैटू) और मिशेल विलियम्स (माई वीक विद मैरिलिन) सभी का काम अच्छा था. भांत-भांत का. संतुष्टिदायक. अपने नाम सुनकर वह कुछ चौंकी, पर जैसा कि वो हमेशा करती हैं. पहली पंक्ति में बैठी अश्वेत अभिनेत्री और उनके साथ नामांकित हुई वियोला डेविस के गालों पर हाथ फैरते हुए वह सीढ़ियां चढ़ीं। उनकी स्पीच वैसे तो भरी पूरी थी, पर मुझे सबसे ईमानदार लगा उनका अपने पति को रुआंसा और भावुक होते हुए कहना, थैंक यू फॉर एवरीथिंग यू हैव गिवन मी.” इन कुछ शब्दों के बीच न जाने कितनी कहानियां और जिंदगी भर का साथ सिमट जाता है, किसी को अंदाजा भी न होगा. ये सुनना किसी तीन घंटे की फिल्म के तमाम इमोशंस के बराबर है. उन्होंने पिछले तीस साल से अपने साथी, मेकअप आर्टिस्ट और हैयर स्टायलिस्ट जे. रॉय हैलेंड का खास धन्यवाद किया.

24. थॉमस लैंगमैन, आर्टिस्ट (बेस्ट फिल्म)

ये अवॉर्ड जो होता है वो फिल्म में अपना पैसा लगाने वाले का होता है. हिसाब से इसका एक बड़ा हकदार निर्देशक भी होता है. खैर, नाम पुकारने के लिए स्टेज पर टॉम क्रूज आए. उन्होंने बड़ी सादगी और गंभीरता से इस शाम को सबसे बड़ा पुरस्कार ‘द आर्टिस्ट’ के नाम किया. 84 साल में कोई साइलेंट फिल्म ऑस्कर जीती. प्रोड्यूसर थॉमस के साथ मिशेल भी आए. बाद में फिल्म के सभी प्रमुख कलाकार ऑस्कर के उस मंच पर पहुंचे जहां पहुंचना दुनिया भर के सिने जगत के सपनों में होता है. शायद यही वजह है कि फ्रांस को विश्व सिनेमा में सबसे बड़ा सम्मान दिलाने वाली फिल्म बन गई है ‘द आर्टिस्ट’. इन सबके बीच फिल्म में बड़ा महत्वपूर्ण रोल अदा करने वाला कुत्ता अगी भी था. उसके गले की डोरी जॉं दुजॉर्दों थामे थे. निर्माता थॉमस की औपचारिक बातों के बाद निर्देशक मिशेल माइक पर आकर बोले, मैं बहुत जरूरी बात कहना चाहूंगा. थैंक यू, एंड आई लव माई किड्स. तो अभी पैरिस में सुबह के छह बजे होंगे और बच्चों तुम लोग तीस सेकंड के भीतर सोने के लिए चले जाओ.”

हमारे लिए भी ये फ्री होने का वक्त था. समारोह संपन्न हो चुका था. बाद में होस्ट बिली क्रिस्टल स्टेज पर आए और हाथ हिलाकर सबको अलविदा किया. अगली बार फिर से इस मंच के गवाह बनने के संकेत के साथ. ये ऑस्कर भी अच्छे रहे. सुबह जल्दी उठकर देखना जाया नहीं गया. हां, किसी मूक फिल्म को छाते हुए देखना अच्छा तो है पर बाकी फिल्मों की तरह जनसमुदाय उसे चटखारे लेकर नहीं देख सकता. पर जो भी हो, द आर्टिस्ट एक मजबूत फिल्म थी. स्टोरीटेलिंग का पुरानी मैलोड्रामा वाला पल्लू पकड़ते हुए. देखते हैं अगले साल कैसी शीर्ष फिल्में बनती हैं और हमें लुभाती हैं....
*** *** ***
 गजेंद्र सिंह भाटी