Tuesday, December 20, 2011

“इंडिया में शेखर कपूर से अच्छा डायरेक्टर नहीः तिग्मांशु धूलिया”

तिग्मांशु धूलिया फिल्ममेकिंग की जिन भट्टियों से होकर निकले हैं, वो उन्हें सबसे स्पेशल बनाती हैं। कल्ट फिल्मों की मेकिंग में वो शामिल रहे। चाहे मणिरत्नम की 'दिल से’ की स्क्रिप्ट लिखना हो, या शेखर कपूर की 'बैंडिट क्वीन’ और आसिफ कपाड़िया की अवॉर्ड विनिंग फिल्म 'द वॉरियर’ की कास्टिंग करना। टीवी को उन्होंने 'जस्ट मोहब्बत’ और 'स्टार बेस्टसेलर् जैसे अनोखे सीरियल दिए। बीते दिनों उनकी अच्छी फिल्म 'साहब बीवी और गैंगस्टर’ आई और अब इरफान खान के साथ बहुप्रतीक्षित फिल्म 'पान सिंह तोमर’ के आने की बारी है। इस सुपर सॉलिड निर्देशक से हुई ये बहुमूल्य बातचीत। संक्षिप्त अंश यहां, संपूर्ण संस्करण यानी अनकट वर्जन फिर कभी।

'पान सिंह तोमर’ कब से तैयार है, रिलीज में देरी क्यों?
हुआ ये कि 'पान सिंह तोमर’ की शूटिंग खत्म हो गई और ये तीन-चार फिल्म फेस्टिवल्स में गई। आबू धाबी, लंदन, न्यू यॉर्क। और बहुत सराही गई। बहुत अच्छे रिव्यूज मिले वहां। एक-आध रिव्यू तो ऐसे मिले कि मुझे खुद शर्म आने लग गई, कि ये फिल्म 'बैंडिट क्वीन’ से भी बेहतर है। मेरे तो गुरू हैं शेखर जी (शेखर कपूर, बैंडिट क्वीन के डायरेक्टर)। उसके बाद क्या हुआ कि 'पान सिंह...’ बिक चुकी थी, सैटेलाइट राइट बिक चुके थे। जब बेचे थे तब सैटेलाइट बतौर टैरेटरी बहुत हॉट नहीं थी, फिर एकदम से हॉट हो गई, क्योंकि बहुत से मूवी चैनल लॉन्च होने वाले थे। तो फिल्म के प्रॉड्यूसर यूटीवी ने चैनलों से प्राइस को लेकर फिर से बातचीत की। उसमें वक्त लग गया। उसके बाद क्या हुआ कि तब से लेकर दिसंबर-जनवरी तक हर हफ्ते इतनी सारी फिल्में है न, कि करेक्ट टाइम नहीं मिल रहा था 'पान सिंह...’ को रिलीज करने का, इसलिए अब फाइनली 9 मार्च 2012 को रिलीज होगी।

आपने मणिरत्नम और शेखर कपूर को असिस्ट किया है। आकांक्षी फिल्ममेकर-राइटर जिसका सपना देखा करते हैं। अपनी जिंदगी और फिल्मों में आपने इन दोनों से क्या लिया?
शेखर जी की पर्सनैलिटी बड़े चार्मिंग आदमी की है। वो चार्म तो मैं ला नहीं सकता। उनका अपना डीएनए है। कोशिश भी करता हूं तो फेल हो जाता हूं। लेकिन बतौर डायरेक्टर ईमानदारी से बोलूं तो इंडिया में उनसे अच्छा डायरेक्टर नहीं है। एक्टरों को कैसे हैंडल करना है, वो मैंने उनसे सीखा। बहुत प्यार से हैंडल करते हैं वो, कोई जोर-जबरदस्ती नहीं, कोई चिल्लाना नहीं, बहुत ही पोलाइट आदमी हैं। रियल लाइफ में भी बहुत तमीज से बात करते हैं। मैं कोशिश करता हूं उनके इस पहलू को पकडऩे का। मणि सर कमाल के डायरेक्टर हैं। विजय आनंद साहब के बाद कोई अगर गाने शूट करता है तो मणि सर करते हैं। दूसरा काम को लेकर उनकी इतनी शिद्दत है, एकदम पूजा की तरह लेते हैं। उसको लेकर मैं बहुत ही इंस्पायर्ड हूं।

आपने 'हासिल’ जैसी कल्ट फिल्म बनाई, पर 'साहब बीवी और गैंगस्टर’ तक आते-आते ऐसा क्यों लगने लगा कि कभी आप कोई मैग्नम ओपस (बहुत बड़ी) बनाना चाहें तो बजट के लिए थोड़ा सा स्ट्रगल करना पड़ता है?
नहीं, ऐसा नहीं है। जिस दिन पिक्चर 'चरस’ रिलीज हुई थी, उसके दूसरे ही दिन ही मैंने अपनी थर्ड पिक्चर की शूटिंग शुरू कर दी थी। थोड़ी एक्सपेरिमेंटल फिल्म थी। 'किलिंग ऑफ अ पॉर्न फिल्ममेकर’ नाम था उसका। इरफान (खान) था उसमें, तो हफ्ते भर शूटिंग की। फिर पता चला कि प्रॉड्यूसर ने उसी पैसे से कोई दूसरी फिल्म शुरू कर दी है, जिसका मुझे इल्म ही नहीं था। उन्होंने वो पिक्चर बना दी, पर आज तक रिलीज नहीं हो पाई और हमारी रुक गई। ऐसे में जो टाइम स्क्रिप्ट लिखने और प्री-प्रॉडक्शन में गया वो बर्बाद हो गया। उसके बाद आप जो बोल रहे हैं मैग्नम ओपस, तो मैंने बहुत बड़ी फिल्म उसके बाद शुरू की, 'गुलामी’ 1857 की क्रांति पर थी। सनी देओल के साथ। उसमें सनी, समीरा रेड्डी, इरफान और लंदन के बहुत सारे एक्टर थे। स्क्रिप्ट लिखने में बहुत वक्त लगा। लोकेशंस ढूंढी, कास्टिंग की, हथियार बनाए, कॉस्ट्यूम बनाई। पीरियड फिल्म थी तो उसमें बहुत टाइम गया। पूना के पास एक जगह है भोर, वहां पर मैंने 70 लाख का सेट लगाया। तीन दिन की शूट के बाद मुझे लगा कि कुछ पैसे की कमी हो रही है, कभी डीजल नहीं आ रहा है, कभी कुछ और। पता चला कि प्रॉड्यूसर के पास पैसे नहीं हैं। शूटिंग रुक गई। हफ्ते भर बाद प्रॉड्यूसर बिल्डिंग से गिर गया और शरीर की सारी हड्डियां टूट गई। वो एक साल बेड पर रहे और पिक्चर समेट ली गई। तो ऐसा नहीं है कि मैग्नम ओपस नहीं बनाऊंगा, जरूर बनाऊंगा उस फिल्म को।

'किलिंग ऑफ अ पॉर्न फिल्ममेकर’ के बारे में पूछना चाहता था कि फिर बंद क्यों हो गई?

इरफान और मैं अपने-अपने काम में लग गए। लेकिन बनाऊंगा मैं उसको, बड़ी इंट्रेस्टिंग स्क्रिप्ट है वो, बड़ी स्पिरिचुअल फिल्म है। रेसिज्म पर है, इंटरनेशनल रेसिज्म पर।

बहुत कम लोग जानते हैं कि आप 'बैंडिट क्वीन’ के कास्टिंग डायरेक्टर थे। आप एनएसडी से निकले, आपको ऑफर मिला, आपने किया। पर क्या ऐसा है कि कोई कास्टिंग डायरेक्टर नहीं बने रहना चाहता, आखिर में सबको डायरेक्टर ही बनना है?
जब मैंने 'बैंडिट क्वीन’ की तब कास्टिंग डायरेक्टर का बहुत डिसिप्लिन था नहीं। जो बाहर से फिल्में आती थी उसमें होते थे कास्टिंग डायरेक्टर। डॉली ठाकुर और ये लोग करते थे कुछ। लेकिन 'बैंडिट क्वीन’ की कास्टिंग सबको ऑन द फेस लगी। इंट्रेस्टिंग थी। अभी तो इंडस्ट्री में हैं कास्टिंग डायरेक्टर। मुकेश छाबड़ा है, नमिता सहगल है। अच्छा है और अब ये डिसिप्लिन में आ गया है।

मौजूदा वक्त में कौन फिल्ममेकर अच्छी फिल्में बना रहे हैं?
राजू हीरानी तो बेस्ट हैं। जितने अच्छे फिल्ममेकर हैं उतने ही अच्छे इंसान भी हैं वो। इम्तियाज का काम मुझे बहुत अच्छा लगता है। दिबाकर का काम मुझे बहुत इंट्रेस्टिंग लगता है। नीरज पांडे की 'अ वेडनसडे’ बहुत अच्छी लगी थी।

इतनी अच्छी राइटिंग कैसे कर लेते हैं?
ड्रामा स्कूल में एक्टिंग में स्पेशलाइज किया था। एक बड़ा रियलिस्टिक नाटक हुआ नॉर्वे के प्ले राइटर हैनरिक इब्सन का। उसका हिंदी में ट्रांसलेशन था जो बहुत खराब था। उसमें मुझे मेन रोल दे दिया गया। मैंने रोल निभाया मगर वो नाटक बहुत बड़ा फ्लॉप हुआ। तब से मैंने खुद से कहा कि मैं बहुत बुरा एक्टर हूं। अब कभी एक्ट नहीं करूंगा। पर इस वाकये के बाद से लगातार लिखने लग गया। हमेशा सोचता था कि एक्टर के लिए ऐसे डायलॉग हों जो थोड़े ड्रमैटिक तो हों, वजन वाले तो हों लेकिन ऐसे न लगें कि लिखे गए हैं। बड़े एफर्टलेस हों और एक्टर को बोलने में सुविधा हो। क्योंकि मैं खुद एक्टर था तो डायलॉग जब लिखता तो पहले बोलकर देखता कि मजा कैसे आएगा।
****************
गजेंद्र सिंह भाटी